F&B

உங்கள் உணவகத்தைப் பற்றி மில்லெனியர்கள் விரும்பும் 3 விஷயங்கள்

மில்லெனியர்கள் காலத்திற்கு வருக! இங்கே சகலமும் துரிதமாகவும், நவீனமாகவும், இன்ஸ்டாகிராமில்-பகிரப்படுவதற்கு உகந்தவையாகவும் இருக்கின்றன. மில்லெனியர்கள் நமது மக்கள் தொகையில் பெரும் பங்கு வகிக்கின்றனர். நமது உணவகத் தொழிலில் வெற்றிகரமாக நீடித்திருக்க நாம் இவர்களை அநுசரித்து செல்ல வேண்டும். மில்லெனியர்கள் பற்றி சில தகவல்கள் வயது 16-34 எதார்தமான சிந்தனை உடையவர்கள் மற்றும் இன-கலப்பிறர்கள். பெரும்பாலானோர் சமூக வலைதளங்களில் இயங்கிக்கொண்டிருப்பவர்கள். இதுவரையில் மனிதவரலாற்றில் மிகுந்த கல்வியறிவுடையவர்கள். தலைமுறைகளில் மாற்றம் இருப்பது போல் அவர்களது பழக்கவழக்கங்களிலும் மாற்றங்கள் இருக்கின்றன. இவர்களைத் திருப்திப்படுத்த நாம் புதுப்புது வழிமுறைகளை கையாள வேண்டியிருக்கிறது. உங்களுடைய மில்லெனியல் வாடிக்கையாளரைக் கவர இதோ மூன்று வழிகள். 1. உணவுவகைகளில் நவீனம் மில்லெனியர்கள் பெரும்பாலும் தொழில் நுட்பத்தில் சிற...

अमेरिकन फास्ट फूड का भारत में करोङों का कारोबार होने के बाद भी ये संघर्षरत क्यूँ है

भारत में फास्ट फूड का कारोबार लगभग 8,500 करोङ का है जिसमें कि हर साल 25 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो रही है। एसोचैम के अनुसार 2020 तक यह कारोबार बढ़कर 2500 करोङ तक पहुँच जाएगा। फास्ट फूड विदेशों में खासकर अमरिका में बहुत ही मशहूर है भारत में फास्ट फूड का चलन नब्बे के दौर में शुरु हुआ उसके पहले तक यह केवल सभ्रांत लोगों के पहुच तक ही था किन्तु नब्बे के दौर में इसकी पहुच आम तबके में शुरु हुई और कुछ ही सालों में यह महानगरों में रहने वालों के जुबान पर छा गया आज भारत में कुल 300 मैकडोनल्डस खुल चुका है साथ ही 2017 तक भारत के 264 शहरों में कुल 1,126 डोमिनोज स्टोर खुल चुके हैं। सन् 2013 में अमेरिका तथा इंग्लैण्ड के बाद भारत डोमिनोज का तीसरा सबसे बङा बाजार था जो दिसम्बर 2014 में बढ़कर दूसरे स्थान पर आ गया। इसके बाद भी कुछ कारणों से अमेरिकन फास्ट फूड भारत में अब भी संघर्षरत हैं अमेरिकी फास्ट फूड कम्पनियों...

भारत में स्ट्रीट फूड विक्रेताओं को रेस्टॉरेंट से अधिक लाभ कैसे है

भारत में बहुत लोगों का स्वयं का व्यवसाय शुरु करने तथा व्यवसायी बनने का सपना होता है लेकिन उनमें से बहुत कम ऐसे कम होते हैं जो स्ट्रीट फूड विक्रेता बनने की सोचते हैं। ऐसे लोग जो सोचते हैं कि स्ट्रीट फूड विक्रेता गरीब तथा उनमें कोई कौशल तथा प्रतिभा नहीं होता वो गलत हैं क्यूँकि स्ट्रीट फूड को करोङों भारतीयों द्वारा पसंद किया जाता है और साथ ही इसमें दिन प्रतिदिन बढ़ने की क्षमता है। व्यवसायीयों को भी ऐसा लगता है कि सङक किनारे खाने का ठेला लगाने के बजाय रेस्टॉरेंट खोलकर ज्यादा इज्जत तथा पैसा कमाया दोनों कमोयो जा सकता है। कुछ समय पहले तक ये सही था किन्तु आज के समय में यह धारणा सही नहीं है क्यूँकि आजकल स्ट्रीट फूड विक्रेता भी अच्छे पैसे का साथ ही उचित दाम पर उच्च गुणवत्ता का भोजन परोसकर इज्जत भी प्राप्त कर सकते हैं। अतः भारत में स्ट्रीट फूड विक्रेताओं को रेस्टॉरेंट से अधिक लाभ कैसे है? पढें किस प्...